अमेरिका में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, 24 घंटे के अंदर 70 हजार नए केस

  • पिछले 24 घंटे में 70,000 से ज्यादा कोरोना के केस मिले
  • किसी भी देश में महामारी शुरू होने के बाद से बड़ा उछाल

दुनिया के देशों में कोरोना वायरस के संकट से सबसे ज्यादा पीड़ित अमेरिका है. अमेरिका में पिछले 24 घंटे में 70,000 से ज्यादा कोरोना के केस मिले हैं, जो किसी भी देश में महामारी शुरू होने के बाद से सबसे बड़ा उछाल है. जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में अब तक 3,183,856 लोग कोरोना से पीड़ित हैं.

जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़े बताते हैं कि दुनियाभर में अब तक जानलेवा कोरोना वायरस से 12,461,962 लोग संक्रमित हुए हैं. इस खतरनाक वायरस की चपेट में आने से पूरी दुनिया में 559,481 लोग अब तक जान गंवा चुके हैं. हालांकि अच्छी बात ये है कि इस बीमारी से इलाज के बाद 6,835,987 मरीज ठीक हुए हैं.

ब्रिटेन में सेल्फ आइसोलेशन से राहत

ब्रिटेन में दर्जनों देशों से आने वाले यात्रियों को अब दो सप्ताह तक सेल्फ आइसोलेट की प्रक्रिया से नहीं गुजरना पड़ेगा. यात्रियों को यह राहत शुक्रवार से ही दे दी गई है. बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार 75 देशों और ब्रिटिश विदेशी क्षेत्रों से आने वाले लोगों के लिए नियमों में ढील दी जा रही है. शुक्रवार सुबह से फ्रांस, इटली, बेल्जियम, जर्मनी और अन्य दर्जनों देशों से ब्रिटेन पहुंचने वाले लोगों को अब 14 दिन तक आइसोलेशन में नहीं रहना पड़ेगा.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

वुहान पहुंची WHO की टीम

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के दो विशेषज्ञ कोरोना की वैश्विक महामारी की उत्पत्ति का पता लगाने के एक बड़े अभियान के तहत जमीनी काम पूरा करने के लिए अगले दो दिन चीन की राजधानी बीजिंग में बिताएंगे.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि एक पशु स्वास्थ्य विशेषज्ञ और एक महामारी विज्ञानी अपनी यात्रा के दौरान भविष्य के अभियान के लिए काम करेंगे जिसका मकसद यह पता लगाना है कि यह विषाणु पशुओं से मनुष्यों तक कैसे फैला.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

वैज्ञानिकों का मानना है कि यह विषाणु चमगादड़ों से पैदा हुआ और फिर कस्तूरी बिलाव यानी पैंगोलिन जैसे अन्य स्तनधारी प्राणियों में फैला और इसके बाद पिछले साल के अंत में चीनी शहर वुहान के खाद्य बाजार में लोगों तक फैला. हालांकि भविष्य में महामारियों को फैलने से रोकने के लिए चीन ने वन्यजीवों के व्यापार पर कार्रवाई की और कुछ पशु बाजार बंद कर दिए.

(एजेंसियों के इनपुट के साथ)

Source – Aaj Tak