कर्नाटक में शिवकुमार की गिरफ्तारी से क्यों नाराज हुआ वोक्कालिगा समुदाय

कर्नाटक के दिग्गज कांग्रेस नेता और पार्टी के संकट मोचक कहे जाने वाले शिवकुमार की गिरफ्तारी से राज्य में वोक्कालिगा समुदाय के लोग नाराज हैं. समुदाय के लोगों ने बुधवार को राजधानी बेंगलुरु में उनकी गिरफ्तारी के विरोध में प्रदर्शन किया. इस विरोध प्रदर्शन को कांग्रेस और जनता दल(एस) ने भी समर्थन दिया.

हजारों की संख्या में उमड़े लोगों ने तख्तियां, बैनर और शिवकुमार के पोस्टर लेकर बीजेपी के खिलाफ नारे लगाए. प्रदर्शनकारियों ने बसावनगुडी में नेशनल कॉलेज से लेकर फ्रीडम पार्क तक जुलूस निकाला. वोक्कालिगा समुदाय के गढ़ कहे जाने वाले मैसूर क्षेत्र से सबसे ज्यादा लोगों ने राजधानी में हुए इस विरोध प्रदर्शन में भाग लिया.

दरअसल, कर्नाटक में वोक्कालिगा और लिंगायत दो प्रमुख समुदाय हैं. दोनों समुदायों में राज्य की राजनीति में वर्चस्व कायम करने की भी होड़ रहती है. कर्नाटक में बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय से आते हैं. वहीं गिरफ्तार हुए कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार वोक्कालिगा समुदाय से आते हैं.

मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में शिवकुमार की गिरफ्तारी से वोक्कालिगा समुदाय अपनी प्रतिष्ठा और वर्चस्व को चुनौती मिलने से देख रहा है. उधर, गिरफ्तारी के तूल पकड़ने पर समुदाय का मामला गरमाता देखकर मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी कह चुके हैं कि वह डीके शिवकुमार पर कार्रवाई से खुश नहीं हैं. माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने यह बयान डैमेज कंट्रोल करने के लिए दिया.

Source – Aaj Tak