झारखंडः क्वारनटीन में बाहर निकल पी रहे थे शराब, ग्रामीणों ने पीटा, हुई मौत

  • पलामू जिले के पंडवा प्रखंड की घटना
  • पीएमसीएच में इलाज के दौरान मौत

कोरोना वायरस आज खौफ का दूसरा नाम बन चुका है. इंसान से इंसान तक पहुंच रही इस बीमारी को रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें जहां तमाम उपाय कर रही हैं. वहीं, शासन-प्रशासन के निर्देशों की लोग अवहेलना भी कर रहे हैं. आदिवासी बाहुल्य राज्य झारखंड के पलामू जिले में बेंगलुरु समेत अन्य शहरों से गांव लौटे लोगों ने जब क्वारनटीन के निर्देश का पालन नहीं किया, तब ग्रामीणों ने ही पिटाई कर दी. इनमें से एक की मौत हो गई है.

घटना पलामू जिले के पंडवा प्रखंड के चक्रधरपुर गांव की है. बताया जाता है गांव के निवासी काशी साव कुछ दिन पहले शहर से अपने गांव लौटा था. काशी समेत सात लोग हाल ही में बेंगलुरु, पुणे और राजस्थान से गांव लौटे थे. 22 मार्च को पाटन स्वास्थ्य केंद्र पर शहरों से लौटे इन सात लोगों की कोरोना वायरस को लेकर जांच की गई थी. स्वास्थ्य कर्मचारियों ने इन सभी को 14 दिन तक क्वारनटीन में रहने की सलाह दी थी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

डॉक्टरों की सलाह को दरकिनार करते हुए सभी घरों से बाहर निकलने लगे और शराब पीते थे. कोरोना के कारण खौफ में आए ग्रामीणों ने इस पर आपत्ति की, तो सातों भिड़ गए. दोनों पक्षों में बहस शुरू हो गई. देखते ही देखते कहासुनी ने मारपीट का रूप से लिया और दो पक्षों में जमकर मारपीट हो गई. काशी साव समेत दोनों पक्ष के पांच से अधिक लोग घायल हो गए.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

देश में कोरोना से आज 3 लोगों की मौत, 12 हुई मरने वालों की संख्या, 606 केस

गंभीर रूप से घायल काशी और अन्य को चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद पटना के पीएमसीएच अस्पताल रेफर कर दिया था, जहां उपचार के दौरान काशी की मौत हो गई. वहीं, अन्य घायलों का उपचार चल रहा है. मृतक काशी की तहरीर पर पड़वा थाने की पुलिस ने 13 लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर तहकीकात कर रही है. इस घटना के बाद गांव में तनाव है, जिसे देखते हुए पुलिस कैंप कर रही है.
Source – Aaj Tak