हैदराबाद गैंगरेप: दो दिन पहले ही सीज हो जाता ट्रक, ऐसे बच निकला मुख्य आरोपी

  • आरोपी आरिफ का ट्रक सीज करने जा रही थी पुलिस
  • मालिक के कहने पर रचा नाटक और भाग निकला आरिफ
  • वारदात में इस्तेमाल हुआ था यही ट्रक

हैदराबाद में महिला डॉक्टर से गैंगरेप की घटना के बाद पूरे देश में आक्रोश का माहौल है. पुलिस ने इस मामले में अब तक चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है और उनसे पूछताछ में नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस पूछताछ में यह बात सामने आई है कि गैंगरेप का मुख्य आरोपी मोहम्मद आरिफ बगैर लाइसेंस के पिछले दो साल से ट्रक चला रहा था. साथ ही घटना से 2 दिन पहले ही उसे पुलिस के चेकिंग के दौरान पकड़ा भी गया था.

बिना दस्तावेज चला रहा था ट्रक

दरअसल, गैंगरेप का मुख्य आरोपी आरिफ पेशे से ट्रक डाइवर है जिसकी उम्र 26 साल बताई जा रही है. रिमांड रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि आरिफ को तेलंगाना रोड ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी ने 24 नवंबर को महबूब नगर इलाके में वाहन चेकिंग के दौरान पकड़ लिया था. आरिफ जो ट्रक चला रहा था उसके वैध दस्तावेज नहीं थे और बाद में यही ट्रक वारदात में इस्तेमाल किया गया.

हैदराबाद गैंगरेप: वारदात से दो दिन पहले ही ऐसे बच निकला मुख्य आरोपी

जानकारी के मुताबिक साल 2017 से ही आरोपी आरिफ बगैर वैध कागजात के यह ट्रक चला रहा था. घटना से दो दिन पहले आरिफ का ट्रक ईंटों से लदा हुआ था और इसमें नियमों से ज्यादा माल धुलाई की जा रही थी. ट्रक को RTO के अधिकारियों ने कर्नाटक से हैदराबाद के बीच महबूबनगर इलाके में पकड़ा था. लेकिन बाद में इस ट्रक को छोड़ दिया गया था.

मालिक के इशारों पर रची साजिश

परिवहन अधिकारी शुरू में इस ट्रक को जब्त करना चाहते थे लेकिन फिर आरिफ ने अपने मालिक श्रीनिवास रेड्डी से फोन पर बात की और उसके कहने पर ही आरिफ ने ट्रक के इंजन से तार निकाल दिए. इसके बाद उसने अफसरों को ट्रक में खराबी आने की बात कही, अफसर भी अब ट्रक को सीज कर अपने साथ ले जाने में असमर्थ थे और उन्हें ट्रक छोड़ के जाना पड़ा. 

वहां से अफसरों के जाने के बाद आरिफ इस ट्रक को महबूबनगर के पेट्रोल पंप पर ले गया जहां उसने ट्रक पर अपने दोस्त नवीन कुमार और चेन्ना केशवल्लु को बुलाया जो कि गैंगरेप की वारदात में शामिल थे. अब पुलिस शमसाबाद निवासी ट्रक मालिक रेड्डी के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने जा रही है.

क्या है मामला

गौरतलब है कि हैदराबाद के पास साइबराबाद में बुधवार को महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप और फिर हत्या के मामले से देशभर में आक्रोश है. हैवानों ने पहले डॉक्टर का रेप किया और फिर हत्या कर शव को जला दिया. पुलिस के मुताबिक 27 नवंबर की रात को महिला डॉक्टर को ट्रक ड्राइवर और उसके साथियों ने अगवा किया था.

पुलिस के मुताबिक, आरोपी पहले पीड़िता को सुनसान जगह पर ले गए और उसे जबरन शराब पिलाई . गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया. एक आरोपी ने मुंह और नाक दबाकर पीड़िता की जान ली और फिर पेट्रोल डालकर उसका शव जला दिया. शव के पास ही पीड़िता का फोन, घड़ी सब छिपा दिया.

Source – Aaj Tak