BMC ने पेश किया 33 हजार करोड़ का बजट, साफ पानी और शिक्षा पर जोर

  • स्वस्थ शहर, ग्रीन गार्डन, रोजगार पर जोर
  • गारगाई प्रोजेक्ट से दूर होगी पानी की कमी

बृहनमुंबई नगर पालिका (BMC) ने मंगलवार को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश कर दिया. इसमें कुल 33,441 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है. बीएमसी ने ‘मुंबई 2030’ का विजन तैयार किया है जिसमें मुंबई को विकसित और खुशहाल शहर के रूप में परिवर्तित करने का वादा है. बजट के जरिये मुंबई में लगातार बढ़ती आबादी को हर प्रकार की सुविधा मिल सके, इस पर ज्यादा जोर दिया गया है.

सुरक्षित यात्रा पर फोकस

मुंबई में चलने वाली गाड़ियों की गति 20 किमी प्रति घंटे से बढ़ाकर 40 किमी प्रति घंटे की औसत गति देने पर प्रतिबद्धता जताई गई है. सार्वजनिक बस परिवहन में यात्रियों की हिस्सेदारी मौजूदा 15 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी करना और कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी लाने के लिए बजट में लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

लोगों की यात्रा सुरक्षित बने, शुद्ध पेयजल, गुणवत्तापूर्ण प्राथमिक शिक्षा, स्वस्थ शहर, ग्रीन गार्डन, रोजगार और बिजनेस में बढ़ोतरी जैसे मुद्दे पर बजट में खास जोर दिया गया है. लोगों को पानी की लगातार सप्लाई मिल सके, इस पर भी जोर दिया गया है. फिलहाल 3850 एमएलडी पानी की सप्लाई होती है जिसे बढ़ाकर 5910 एमएलडी किए जाने की तैयारी है. इसके लिए गारगाई प्रोजेक्ट और रिसाइकिल पानी पर निर्भरता बढ़ाई जाएगी.

ये भी पढ़ें: मुंबई में नाइट लाइफ के एक दिन बाद ही फूड ट्रक को लेकर ऐतराज

कचरा प्रबंधन पर जोर

मुंबई में अभी 6700 टीपीडी कचरे का प्रबंधन होता है जिसे 2030 तक घटाकर 5 हजार टीपीडी करने का लक्ष्य है. इसके लिए 1800 टीपीडी कचरे को एनर्जी प्लांट में खपाने की योजना है. निर्माण कार्यों के कचरे के लिए 1200 टीपीडी क्षमता का एक प्लांट लगाने का भी लक्ष्य रखा गया है. सीमेंट और डामर की सड़कें बनाने के लिए 1600 करोड़ रुपये दिए गए हैं. मानसून में बाढ़ रोकने और पानी की पाइप लाइन दुरुस्त करने के लिए पांच करोड़ रुपये का प्रावधान रखा गया है. इसके साथ ही मुंबई को हरा-भरा बनाने और उद्यानों के लिए 226.77 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है.

ये भी पढ़ें: राज ठाकरे 2.0: पहली बार फेल हुए, इस बार क्या करेंगे कमाल?

Source – Aaj Tak